भारत और UAE के बीच India-UAE Virtual Summit का आयोजन किया गया

Spread the love

भारत और UAE के बीच India-UAE Virtual Summit:-

अभी हाल ही में India और UAE के बीच India-UAE Virtual Summit का आयोजन किया गया, इस आयोजन में भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और UAE के प्रिंस ने ऑनलाइन भाग लिया और इसमें कई समझौतों पर हस्ताक्षर किया गया।

भारत और UAE के बीच India-UAE Virtual Summit का आयोजन किया गया
India और UAE के बीच India-UAE Virtual Summit का आयोजन

माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी और अबू धाबी के क्राउन प्रिंस हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने शुक्रवार की एक वर्चुअल शिखर सम्मेलन आयोजित किया। दोनों नेताओं ने सभी क्षेत्रों में द्विपक्षीय संबंधों में निरंतर वृद्धि पर गहरा संतोष व्यक्त किया।

India-UAE Virtual Summit के प्रमुख बिंदु:-

माननीय प्रधान मंत्री और महामहिम क्राउन प्रिंस ने एक संयुक्त विजन स्टेटमेंट “भारत और संयुक्त अरब अमीरात को आगे बढ़ाना व्यापक रणनीतिक साझेदारी: न्यू फ्रंटियर्स, न्यू माइलस्टोन” जारी किया। वर्चुअल समिट का एक प्रमुख आकर्षण वाणिज्य और उद्योग मंत्री श्री पीयूष गोयल और यूएई के अर्थव्यवस्था मंत्री, एच.ई. अब्दुल्ला बिन तौक अल मारी दोनों नेताओं की आभासी उपस्थिति में शामिल थे।

यह भी पढ़ें:-

भारत में नदी में सिक्का फेकना का क्या है राज, यह अन्धविश्वास नहीं बल्कि इसके पीछे छिपा है साइंस

India-UAE Virtual Summit में दोनों नेताओं ने भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ और संयुक्त अरब अमीरात की स्थापना के 50वें वर्ष के अवसर पर संयुक्त स्मारक डाक टिकट भी जारी किया। शिखर सम्मेलन के दौरान भारतीय और संयुक्त अरब अमीरात की संस्थाओं के बीच दो समझौता ज्ञापनों की भी घोषणा की गई। ये हैं, खाद्य सुरक्षा कॉरिडोर पहल पर एपीडा और डीपी वर्ल्ड और अल दाहरा के बीच समझौता ज्ञापन और वित्तीय परियोजनाओं और सेवाओं में सहयोग पर भारत के गिफ्ट सिटी और अबू धाबी ग्लोबल मार्केट के बीच समझौता ज्ञापन।

इसके अलावां दो अन्य एमओयू – एक क्लाइमेट एक्शन में सहयोग पर और दूसरा शिक्षा पर भी दोनों पक्षों के बीच सहमति हुई है। प्रधानमंत्री ने कोविड महामारी के दौरान भारतीय समुदाय की देखभाल करने के लिए अबू धाबी के महामहिम क्राउन प्रिंस को धन्यवाद दिया। उन्होंने उन्हें भारत की शीघ्र यात्रा करने के लिए भी आमंत्रित किया।

India-UAE Virtual Summit में India और UAE के बिच हुए समझौते और उनके उद्देश्य:-

यह साझेदारी दोनों देशों भारत और संयुक्त अरब अमीरात के बीच भविष्य-उन्मुख साझेदारी के लिए एक रोडमैप स्थापित करता है और फोकस क्षेत्रों और परिणामों की पहचान करता है। इसका साझा उद्देश्य अर्थव्यवस्था, ऊर्जा, जलवायु कार्रवाई, उभरती प्रौद्योगिकियों, कौशल और शिक्षा, खाद्य सुरक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और रक्षा और सुरक्षा सहित विविध क्षेत्रों में गतिशील नए व्यापार, निवेश और नवाचार को बढ़ावा देना है।

समझौता भारतीय और संयुक्त अरब अमीरात के व्यवसायों को महत्वपूर्ण लाभ प्रदान करेगा, जिसमें बढ़ी हुई बाजार पहुंच और कम टैरिफ शामिल हैं। यह उम्मीद की जाती है कि सीईपीए अगले 5 वर्षों में द्विपक्षीय व्यापार को मौजूदा 60 अरब अमेरिकी डॉलर से बढ़ाकर 100 अरब अमेरिकी डॉलर कर देगा। दोनों देश समुद्रीय सुरक्षा के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाएंगे. हर तरह के आतंकवाद और चरमपंथ के खिलाफ क्षेत्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सहयोग करेंगे।

India-UAE Virtual Summit में हुए समझौते के अनुसार भारत के तेल आयात का करीब एक तिहाई हिस्सा सप्लाई करने वाला UAE किफायती दामों और अबाध आपूर्ति बनाए रखने में मदद करेगा। साथ ही भारतीय अर्थव्यवस्था की ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए नए संसाधनों के विकास पर भी दोनों देश सहयोग करेंगे।

दोनों देश मिलकर हाइड्रोजन टास्क फोर्स बनाएंगे और ईंधन के लिए हरित हाइड्रोजन का उत्पादन बढ़ाएंगे और अत्यावश्यक भुगतान तकनीकों पर सहयोग बढ़ाएंगे, साथ ही एक-दूसरे के स्टार्ट अप को प्रोत्साहित करेंगे। भारत की मदद से यूएई में एक IIT की स्थापना की जाएगी।

India औऱ UAE कौशल विकास के क्षेत्र में भी हाथ मिलाएंगे ताकि बाजार की बदलती जरूरतों और भविष्य के कामकाज के लिहाज से मानव संसाधन विकसित हो सके। ये दोनों देश खाद्यान्न उत्पादन और आपूर्ति में सहयोग करेंगे, इसमें खेतों से लेकर बंदरगाह और यूएई के बाजारों तक मजबूत श्रृंखला विकसित की जाएगी।

India और UAE ने टीकों पर शोध, उत्पादन और भरोसेमंद सप्लाई चेन पर मिलकर काम करने का फैसला किया है, इसके लिए यूएई भारत में निवेश भी करेगा। भारत और यूएई के बीच सांस्कृतिक परियोजनाओं, प्रदर्शनियों और सांस्कृतिक आदान-प्रदान पर जोर दिया जाएगा।

Source:- PIB

इन्हे भी देखें:-

सुप्रीम कोर्ट ने निजी नौकरियों के लिए हरियाणा कोटे पर लगी रोक हटाया

देश में गुणवत्ता के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए The 8th Annual Meeting इंडिया और जर्मनी के आयोजित


Spread the love

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.