कच्चे तेल(Crude Oil) की कीमतों में गिरावट से भारत पर इसका प्रभाव

Spread the love

Crude Oil की कीमत में गिरावट

कच्चे तेल(Crude Oil) की कीमतों में गिरावट से भारत पर इसका प्रभाव
Its impact on India due to fall in Crude Oil prices

अभी कुछ दिनों से Crude Oil की में लगातार गिरावट देखी जा रही है। ऐसे में कच्चे तेल की कीमत दो सप्ताह की अवधि के बाद मंगलवार को $ 100 बैरल के निशान से नीचे गिर गई, जिसमें लागत बढ़कर 139 डॉलर प्रति बैरल हो गई, जो 14 वर्षों में इसका उच्चतम स्तर है। बुधवार को ब्रेंट क्रूड 102.7 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया, जो अभी भी साल की शुरुआत में 78.11 डॉलर प्रति बैरल से लगभग 32 फीसदी ऊपर है।

कच्चे तेल(Crude Oil) की कीमतें क्यों गिर रही हैं?

कच्चे तेल के सबसे बड़े आयातक चीन में कोविड -19 मामलों में वृद्धि, और संकेत है कि ईरान के साथ एक परमाणु समझौते से वैश्विक कच्चे तेल(Crude Oil) की आपूर्ति को बढ़ावा मिल सकता है, रूस-यूक्रेन संकट जिससे तेल की कीमतों को ठंडा करने में मदद मिली है जो कि वर्ष की शुरुआत से लगातार बढ़ रही है।

अभी चीन ने कोविड -19 संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए नए लॉकडाउन की घोषणा की है, जो देश में दो साल के उच्च स्तर पर पहुंच गया है। कच्चे तेल की मांग पर चीन में उछाल के प्रभाव के बारे में चिंताओं से कीमतों को कम करने में मदद मिली।

यह भी पढ़ें:-

16 March 2022 से जुड़े सभी Current Affairs- Current Affairs Today

क्या चींटियां(Ants) कुत्तों से तेज कैंसर का सटीक और तेज़ पता लगा सकती है?- क्या कहता है रिसर्च

इसके अलावां, रिपोर्ट है कि अमेरिका, रूस और ईरान के बीच 2015 के परमाणु समझौते को पुनर्जीवित करने के लिए बातचीत चल रही है, उसने भी वैश्विक बाजार में आपूर्ति की चिंताओं को कम किया है। ईरान ने 2015 के समझौते के तहत, ईरानी तेल निर्यात को प्रतिबंधित करने वाले आर्थिक प्रतिबंधों में छूट के बदले अपने परमाणु कार्यक्रम को सीमित करने पर सहमति व्यक्त की थी। रूस के साथ इस बात की गारंटी के लिए बातचीत रुक गई थी कि देश पर पश्चिमी प्रतिबंध ईरान के साथ देश के आर्थिक संबंधों को प्रभावित नहीं करेंगे।

हालांकि, रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने मंगलवार को कहा कि रूस को लिखित गारंटी मिली है कि इस समझौते के तहत देश को अपना काम अबाध रूप से करने दिया जाएगा। विशेषज्ञों ने उल्लेख किया कि अगर तेल निर्यात पर प्रतिबंध हटा दिए जाते हैं तो ईरान कुछ महीनों में अपने कच्चे तेल(Crude Oil) के उत्पादन में लगभग 1.5 मिलियन बैरल प्रति दिन की वृद्धि कर सकता है।

भारत में इसका असर क्या है ?

भारत अपनी कच्चे तेल(Crude Oil) की जरूरतों का लगभग 85 प्रतिशत आयात करता है, और कच्चे तेल की ऊंची कीमतें आमतौर पर पंप पर पेट्रोल और डीजल की ऊंची कीमतों में तब्दील हो जाती हैं। हालांकि, तेल विपणन कंपनियों (OMCs) ने 4 नवंबर से पेट्रोल और डीजल की कीमतों को स्थिर रखा है, जबकि इस अवधि के दौरान कच्चे तेल की कीमत में लगभग 27 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

विश्लेषकों को उम्मीद है कि ओएमसी जल्द ही पेट्रोलियम उत्पादों के लिए अंतरराष्ट्रीय कीमतों के अनुरूप पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ाना शुरू कर देगी। केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा है कि सरकार कच्चे तेल की खरीद के लिए रूस के साथ बातचीत कर रही है। “वर्तमान में चर्चा चल रही है। पुरी ने संसद में कहा कि कितना तेल उपलब्ध है, इस तरह के कई मुद्दे हैं।

रूस रियायती दरों पर कच्चे तेल(Crude Oil) के कार्गो की भारत से पेशकश कर रहा है क्योंकि यूरोपीय संघ ने स्विफ्ट(SWIFT) वित्तीय लेनदेन संदेश प्रणाली से सात रूसी बैंकों को प्रतिबंधित करने का फैसला किया है, जिससे रूसी तेल कार्गो के लिए खरीदारों को ढूंढना मुश्किल हो गया है। कुछ खरीदारों ने यूक्रेन के अपने आक्रमण के दौरान रूस से कच्चे तेल की खरीद से संभावित प्रतिष्ठित क्षति पर रूसी कच्चे तेल की खरीद के खिलाफ भी फैसला किया है।

Source:- The Indian Express

इन्हे भी देखें:-

15 March 2022 से जुड़े सभी Current Affairs- Current Affairs Today

रूस-यूक्रेन संकट से Semiconductor(अर्धचालकों) की कमी क्यों हो सकती है?


Spread the love

Manish Kushwaha

Hello Visitor, मेरा नाम मनीष कुशवाहा है। मैं एक फुल टाइम ब्लॉगर हूँ, मैंने कंप्यूटर इंजीनियरिंग से डिप्लोमा किया है और मैंने BA गोरखपुर यूनिवर्सिटी से किया है। मैं Knowledgehubnow.com वेबसाइट का Owner हूँ, मैंने इस वेबसाइट को उन लोगो के लिए बनाया है, जो कम्पटीशन एग्जाम की तैयारी करते है और करंट अफेयर, न्यूज़, एजुकेशन से जुड़े आर्टिकल पढ़ना चाहते हैं। अगर आप एक स्टूडेंट हैं, तो इस वेबसाइट को सब्सक्राइब जरूर करें।
View All Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.