पर्यावरण क्या है?, किसने किस तरह पर्यावरण को परिभाषित किया है-

Spread the love

 पर्यावरण क्या है?

पर्यावरण क्या है?
पर्यावरण क्या है?

पर्यावरण क्या है?, पर्यावरण शब्द को अंग्रेजी में Environment कहते है। अंग्रेजी का यह शब्द फ़्रांसिसी भाषा के Environ से लिया गया है जिसका अर्थ होता है चारो तरफ से घेरना। ‘ment’ का अर्थ क्रिया होता है।

अर्थात हम कह सकते है किसी चीज को चारो तरफ से घेरने की प्रक्रिया। अतः पर्यावरण से हमारा तात्पर्य मानव एवं प्रकृति के बिच आंतरिक सम्बन्धो से है इस प्रकार पर्यावरण वह है जिसने हमे चारो तरफ से घेरा हुआ है और इसका सम्बन्ध मानवीय क्रियाओं एवं प्रकृति पर उनके प्रभाव से है।

पर्यावरण हमारे चारो तरफ का वह परिवेश होता है जिसमे जीव एवं निर्जीव निवास करते है,प्रतिक्रियाएं करते है,बड़े होता है और उनका विनाश भी  है। पर्यावरण की परिस्थितियां इसमें निवास करने वाले जीवों के जीवन को नियंत्रित करती है।

यह भी पढ़ें:- 

स्तूप क्या होता है, आईये जानते है इसके संरचना और प्रकार के बारे में

किसने किस तरह पर्यावरण को परिभाषित किया है :-

The English environment protection act के अनुशार,”पर्यावरण वायु,भूमि तथा जल में से सभी या किसी एक तत्त्व से गठित है। वायु वह माध्यम है जो भवनों में तथा अन्य प्राकृतिक अथवा मानव निर्मित में भूतल से ऊपर अथवा निचे विधमान है।”

पर्यावरण क्या है?, Meriam Webster के अनुशार,”पर्यावरण वे परिस्थितियां है जो किसी मनुष्य अथवा वस्तु को चारो ओर से घेरे रहती है और उनकी बृद्धि,स्वस्थ्य एवं प्रगति को प्रभावित करती है।”

Oxford advanced learner’s dictionary के अनुशार,”पर्यावरण को उस प्राकृतिक परिस्थितियों के रूप में परिभाषित किया जाता है जिनमे लोग ,पशु तथा पौधे रहते है।”……….Join Telegram

Universal Encyclopedia के अनुशार,”पर्यावरण को उन परिस्थितियों अभिकरणों एवं प्रभावों के योग के रूप में परिभाषित किया जाता है जो किसी जिव प्रजाति अथवा जाती के विकास ,वृद्धि ,जीवन एवं मृत्यु को प्रभावित करती है।”

The UN conference on human environment के अनुशार,”पर्यावरण वायु ,जल एवं भूमि का मिश्रण है जो बिशेष रूप से प्राकृतिक पारिस्थितिक तंत्र का प्रतिनिधित्व करता है।”

Encyclopedia Britannica के अनुशार,”पर्यावरण को उन सभी बाह्य प्रभावों के रूप में परिभाषित किया जाता है जो किसी जीव पर क्रिया करते है। ये किसी व्यक्ति को चारो ओर से घेरने वाली भौतिक तथा जैविक प्राकृतिक शक्तियां है।”

इस तरह हम कह सकते हैं की पर्यावरण हमारे चारो तरफ वायु,जल तथा भूमि  के रूप में मौजूद एक आवरण है जिसमे हम निवेश करते है और पर्यावरण के हिसाब से हम अपना जीवन जीते हैं। इस पर्यावरण के बिना जीवन की कल्पना भी अधूरी है कयोंकि यही हमारे मुलभुत अवस्यक्ताओं की पूर्ति करता है जिससे हम इस पृथ्वी पर आसानी से जीवन यापन कर पाते है।दोस्तों मैं आशा करता हूँ की आपकी समझ पर्यावरण के बारे में इस पोस्ट से बेहतर हुई होगी अब हम अगले पोस्ट में पर्यावरण के घटक के बारे जानेंगे।

इन्हे भी पढ़ें:-

मौर्यकालीन महत्वपूर्ण स्तम्भ और इनकी विशेषता-


Spread the love

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.