इंटरनेट में IP Address क्या होता है और इसके प्रकार

Spread the love

IP Address क्या होता है
IP Address क्या होता है

IP Address क्या होता है?:-

IP का अर्थ होता है इंटरनेट प्रोटोकॉल, IP Address एक प्रकार का पता(address)  जो इंटरनेट पर किसी डिवाइस का पहचान करता है।  IP एड्रेस के मद्दद से हम  डिवाइस को ट्रैक कर सकते है। यह  डिवाइस का एक यूनिक id होता है  जो इंटरनेट के माध्यम से भेजे गए डाटा के प्रारूप को नियंत्रित करने का काम करता है। यह डिवाइसों के बिच पते की पहचान करता जिसके द्वारा हम उन डिवाइसों बिच कम्मुनिकेशन स्थापित कर सकते है और  माध्यम से डाटा का आदान-प्रदान  कर सकते है। IP Address इंटरनेट पर बिभिन्न प्रकार के वेबसाइटों ,राउटरों और कम्पूटरो के बिच अंतर प्रदान करने का काम करता है।

IP  क्या है ?

IP पता अवधियों(डॉट के निशान) द्वारा अलग की गयी एक स्ट्रिंग संख्या होती है। IP पते चार नम्बरो के सेट के रूप में ब्यक्त किये जाते है- जैसे, पता 192.158.1.55  हो सकता है।  सेट में पूरी संख्या 0 से 255 तक हो सकती है। इसलिए , पूर्ण IP एड्रेसिंग 0.0.0.0  से 255.255.255.255 हो सकता है। IP पते ऐच्छिक नहीं होते है।  वे गाडितिया रूप से इंटरनेट द्वारा प्रोवाइड किये नंबर होते है। यह इंटरनेट कारपोरेशन फॉर असाइंड नेम्स एंड नंबर्स के एक प्रभाग द्वारा प्रदान किया गया था। ICANN एक गैर लाभकारी संगठन है जिसे 1998 में अमेरिका में स्थापित किया था जिससे इंटरनेट की सुरक्षा में मदद मिल सके और इसे सभी के प्रयोग करने योग्य बनाया जा सके। हर बार जब कई इंटरनेट पर डोमेन खरीदता है, तो वह डोमेन रजिस्ट्रार के नाम से जाना जाता है। इस डोमेन को खरीदने के लिए ICANN को एक छोटा सा सुल्का देना पड़ता है।
 
यह भी पढ़े:-

इंटरने प्रोटोकॉल कैसे काम करता है?

इंटरनेट प्रोटोकॉल सुचना प्रसारित करने के लिए दिशा निर्देशों का उपयोग करता है और संचार करने के लिया किसी अन्य भाषा के रूप में कार्य करता है।  सभी डिवाइस इस प्रोटोकॉल का प्रयोग कर अन्य कनेक्टेड डिवाइस के साथ जानकारी ढूंढने का कार्य करते है,भेजते है ,एक्स्चेंगे करते है। IP के मदद से कोई भी कंप्यूटर किसी दूसरे कंप्यूटर से उसकी भाषा में बात कर सकता है।
IP Address के प्रकार:-
IP एड्रेस कई प्रकार के होते है-
1. उपभोक्ता IP एड्रेस:-
 
इंटरनेट सेवा योजना वाले प्रत्येक व्यक्ति या व्यवसाय के दो प्रकार के आईपी पते होते है- उनके निजी आईपी पते और उनके सार्वजनिक आईपी पते। सार्वजनिक और निजी शब्द नेटवर्क स्थान से संबंधित हैं – अर्थात, एक निजी आईपी पता एक नेटवर्क के अंदर उपयोग किया जाता है, जबकि एक सार्वजनिक एक नेटवर्क के बाहर उपयोग किया जाता है।
 
2. निजी(private) IP एड्रेस:-
 
आपके इंटरनेट नेटवर्क से जुड़ने वाले प्रत्येक उपकरण का एक निजी आईपी पता होता है। इसमें कंप्यूटर, स्मार्टफोन और टैबलेट शामिल हैं, लेकिन स्पीकर, प्रिंटर या स्मार्ट टीवी जैसे ब्लूटूथ-सक्षम डिवाइस भी शामिल हैं। चीजों के बढ़ते इंटरनेट के साथ, आपके पास घर पर मौजूद निजी आईपी पतों की संख्या शायद बढ़ रही है।…….Join Telegram
आपके राउटर को इन वस्तुओं को अलग से पहचानने के लिए एक तरीके की आवश्यकता होती है, और कई वस्तुओं को एक दूसरे को पहचानने के तरीके की आवश्यकता होती है। इसलिए, आपका राउटर निजी आईपी पते उत्पन्न करता है जो प्रत्येक डिवाइस के लिए अद्वितीय पहचानकर्ता होते हैं जो उन्हें नेटवर्क पर अलग करते हैं।
 
3. सार्वजनिक IP Address :-
 
एक सार्वजनिक आईपी पता आपके पूरे नेटवर्क से जुड़ा प्राथमिक पता है। जबकि प्रत्येक कनेक्टेड डिवाइस का अपना आईपी पता होता है, वे आपके नेटवर्क के मुख्य आईपी पते में भी शामिल होते हैं। जैसा कि ऊपर वर्णित है, आपका सार्वजनिक आईपी पता आपके राउटर को आपके आईएसपी द्वारा प्रदान किया जाता है। आमतौर पर, ISP के पास IP पतों का एक बड़ा पूल होता है जिसे वे अपने ग्राहकों को वितरित करते हैं। आपका सार्वजनिक आईपी पता वह पता है जिसका उपयोग आपके इंटरनेट नेटवर्क के बाहर के सभी उपकरण आपके नेटवर्क को पहचानने के लिए करेंगे।
इन्हे भी देखें:-

Spread the love

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.